सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार तक स्थगित की कार्यवाही, अब परीक्षा को लेकर 25 जून को फैसला बताएगा बोर्ड

  • बोर्ड ने लंबित परीक्षा 2020 पर निर्णय के लिए सुप्रीम कोर्ट से दो दिन का और समय मांगा
  • कुल 29 विषयों की परीक्षा होनी है, इनमें से 6 विषय की परीक्षा उत्तर पूर्वी दिल्ली में 10वीं क्लास के छात्रों के लिए होनी है

दैनिक भास्कर

Jun 23, 2020, 01:48 PM IST

सीबीएसई बोर्ड ने 10वीं- 12 वीं की लंबित बोर्ड परीक्षा 2020 पर निर्णय के लिए सुप्रीम कोर्ट से दो दिन का और समय मांगा है। इसके बाद अभिभावकों द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई कर रही शीर्ष अदालत ने सुनवाई 25 जून 2020 तक स्थगित कर दी है। अब सीबीएसई परीक्षा के बारे में 25 जून गुरुवार को अपना फैसला कोर्ट के सामने सुनाएगा। सीबीएसई बोर्ड की ओर से मामले को पेश कर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को बताया कि “चर्चा एक उन्नत स्तर पर है। कल शाम तक, निर्णय को अंतिम रूप दिया जाएगा। ” एक बार घोषणा करने के बाद, सीबीएसई गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को निर्णय की सूचना देगा, जिसके बाद अदालत दोपहर 2 बजे फैसला सुनाएगी।

10वीं का रिजल्ट असेसमेंट से तैयार किया जा सकता है

सूत्रों के मुताबिक, बोर्ड और एचआरडी मंत्रालय के बीच हुई बैठक में इस बात पर सहमति बनी है कि 10वीं का रिजल्ट तो असेसमेंट से तैयार किया जा सकता है, लेकिन 12वीं का नहीं। ऐसा इसलिए, क्योंकि इसी रिजल्ट के आधार पर आईआईटी, मेडिकल और दूसरे इंस्टीट्यूट्स में दाखिला होता है। असेसमेंट में कई होनहार छात्र कमजोर साबित हो सकते हैं, क्योंकि वे क्लास टेस्ट की बजाय एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी को तवज्जो देते हैं। 

परीक्षा में देरी के चलते पीछे छूट सकते हैं स्टूडेंट्स

वहीं, देश में करीब 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने 12वीं की अपनी बोर्ड परीक्षाएं पूरी कर ली हैं। इनमें बिहार, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, केरल, झारखंड, तमिलनाडु और कर्नाटक शामिल हैं। जिन राज्यों ने अपनी परीक्षाओं को पूरा कर लिया है, वे जल्द ही कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के लिए अपनी प्रवेश प्रक्रिया शुरू करेंगे। ऐसे में अगर CBSE की परीक्षाएं 15 जुलाई के बाद के लिए स्थगित की जाती हैं, तो स्टूडेंट्स पीछे छूट सकते हैं। मौजूदा समय में बोर्ड वैकल्पिक मूल्यांकन पद्धति पर काम कर रहा है, जिसके आधार पर वह 12वीं का परिणाम घोषित करेगा, जिसमें जुलाई में होने वाले पेपर भी शामिल होंगे। हालांकि, इस बारे में अभी कोई औपचारिक घोषणा नहीं हुई है।

29 विषयों की परीक्षा होनी है

कुल 29 विषयों की परीक्षा होनी है। इनमें से 6 विषय की परीक्षा उत्तर पूर्वी दिल्ली में 10वीं क्लास के छात्रों के लिए होनी है। इन्हें दिल्ली में हुए दंगे की वजह से टाला गया था। 12वीं के 12 विषयों की परीक्षा देशभर में होनी है। वहीं, उत्तर पूर्वी दिल्ली में इन 12 के अलावा 11 और मुख्य विषयों की परीक्षा होनी है। बोर्ड ने ये परीक्षाएं 1-15 जुलाई के बीच कराने का नोटीफिकेशन जारी किया है। इसके बाद इंजीनियरिंग एंट्रेस एग्जाम जेईई-मेन्स की परीक्षा 18-23 जुलाई और मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम नीट की परीक्षा 26 जुलाई को कराई जानी है।

5 thoughts on “सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार तक स्थगित की कार्यवाही, अब परीक्षा को लेकर 25 जून को फैसला बताएगा बोर्ड”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top