सुप्रीम कोर्ट का ICAI को सुझाव, परीक्षा में शामिल ना हो पाने वाले कैंडिडेंट्स को माने “ऑप्ट आउट केस”

  • हर साल 2 मई को आयोजित होने वाली परीक्षा इस बार दो बार स्थगित हुई
  • परीक्षा के खिलाफ दायर याचिका में की गई एग्जाम को स्थगित करने की मांग

दैनिक भास्कर

Jun 29, 2020, 04:26 PM IST

नई दिल्ली.

इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टेड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया की सीए परीक्षा पर आज सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो छात्र परीक्षा में शामिल नहीं हो पा रहे हैं, उन्हें ऑप्ट आउट केस माना जाएगा। भले ही स्टूडेंट ने ऑप्ट आउट विकल्प का चुनाव ना किया हो। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने ऑप्ट आउट विकल्प पर रोक लगाने वाली याचिका पर इंस्टीट्यूट से जवाब मांगा भी है। सीए की परीक्षा 29 जुलाई से 16 अगस्त के बीच आयोजित की जाएगी।

2 जुलाई को होगी अगली सुनवाई

कोर्ट ने यह भी कहा कि लगातार बदलती स्थिति के बीच अगर कोई उम्मीदवार ऑप्ट ऑउट ऑप्शन नहीं चुन पाता है और कंटेमेंट जोन में आ जाता है तो ऐसे स्टूडेंट्स को परीक्षा केंद्र बदलने का विकल्प दिया जाना चाहिए। इसके साथ ही कोर्ट ने ICAI को सुझाव दिया कि संक्रमण के कारण कैंडिडेट्स के लिए परीक्षा केंद्र बदलने की आखिरी तारीख बढ़ा देनी चाहिए। कोर्ट ने यह भी कहा कि परीक्षा के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन किया जाना चाहिए। अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट अगली सुनवाई 2 जुलाई को करेगा।

हर साल 2 मई को होती है परीक्षा

यह परीक्षा हर साल 2 मई को आयोजित की जाती है, लेकिन इस बार कोरोना की वजह से इसे दो बार स्थगित किया गया। ऐसे में संस्थान 29 जुलाई को इस परीक्षा का आयोजन करवाना चाहता है। हालांकि देश में बने हालातों के बीच पेरेंट्स और स्टूडेंट लगातार इसे स्थगित करने की मांग कर रहे हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को परीक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका की सुनवाई हुई। इस दौरान कोर्ट ने इंस्टीट्यूट को नोटिस जारी करते हुए 29 जून तक अपना पक्ष स्पष्ट करने को कहा।

परीक्षा स्थगित करने की मांग

परीक्षा के खिलाफ दायर याचिका में एग्जाम को स्थगित करने की मांग की गई है। दायर याचिका के मुताबिक जब तक कोरोनावायरस खत्म नहीं होता, तब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जाए। ऐसे में परीक्षा के स्थगित होने के कयास लगाए जा रहे है। इससे पहले इंस्टीट्यूट सीए परीक्षा में शामिल होने वाले स्टूडेंट्स को ऑप्ट आउट विकल्प भी दिया था। इसके मुताबिक अगर स्टूडेंट चाहे तो अभी होने वाली परीक्षा को छोड़ नवंबर में होने वाली परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

5 thoughts on “सुप्रीम कोर्ट का ICAI को सुझाव, परीक्षा में शामिल ना हो पाने वाले कैंडिडेंट्स को माने “ऑप्ट आउट केस””

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top