सीबीएसई ने फिर परीक्षा टाली, उत्तरी-पूर्वी दिल्ली के 86 केंद्रों पर 28-29 फरवरी को होने वाली परीक्षा रद्द

  • दिल्ली हाईकोर्ट का सीबीएसई को आदेश, रोज-रोज नहीं; अगले 10-15 दिनों का एग्जाम शेड्यूल एक बार में बताएं
  • सख्ती का असर; सीबीएसई ने सर्कुलर जारी करके प्रधानाचार्यों से छात्र-छात्रों की जानकारी मांगी

दैनिक भास्कर

Feb 27, 2020, 08:06 PM IST

एजुकेशन डेस्क. सीबीएसई ने दिल्ली के हिंसाग्रस्त उत्तरी-पूर्वी इलाके में 28 और 29 फरवरी को होने वाली 10वीं-12वीं की परीक्षा स्थगित कर दी हैं। इससे पहले दिल्ली सरकार के आग्रह पर सीबीएसई ने 26-27 फरवरी को हिंसाग्रस्त इलाकों के 86 केंद्रों पर होने वाली परीक्षा भी टाल दी थीं। हाईकोर्ट की सख्ती के बाद, गुरुवार को सीबीएसई ने सर्कुलर  जारी करके हिंसाग्रस्त इलाके के दायरे में आने वाले स्कूलों के प्रधानाचार्यों से छात्र-छात्रों की जानकारी मांगी है। स्कूलों से जानकारी मिलने के बाद सीबीएसई दोबारा परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान करेगा।

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिए सख्त निर्देश
दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को सीबीएसई को आदेश देते हुए कहा, 10वीं- 12वीं के जिन छात्रों के एग्जाम सेंटर हिंसा प्रभावित क्षेत्र में हैं, उन्हें रोज-रोज नहीं बल्कि अगले 10-15 दिनों के लिए परीक्षाओं का कार्यक्रम एक बार में बताया जाए। जस्टिस राजीव शकधर ने कहा, उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हालात बदतर हो रहे हैं, ऐसे में सीबीएसई को अगले 10-15 दिनों के लिए फैसला लेने की जरूरत है। 

सीबीएसई के सर्कुलर पर हाईकोर्ट ने दिया निर्देश
हाइकोर्ट ने कहा, सिर्फ कल या परसों के लिए फैसला नहीं लिया जा सकता क्योंकि बच्चों को परीक्षाओं के कार्यक्रम के बारे में जानने की जरूरत है। वे हर दिन, अगले दिन के लिए इंतजार नहीं कर सकते। अदालत की ओर से ये निर्देश तब आए हैं, जब सीबीएसई ने बुधवार को जानकारी दी कि दिल्ली हिंसाग्रस्त इलाकों में 86 स्कूलों में परीक्षाएं टाल दी गई हैं।

छात्रों की याचिका पर की सुनवाई
दरअसल, पूर्वी दिल्ली के निजी स्कूल भाई परमानंद विद्या मंदिर और उसके 10वीं- 12वीं के कुछ छात्रों की याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने यह निर्देश दिया। छात्रों ने कहा था कि अलॉट किए गए एग्जाम सेंटर उनके स्कूल से 16 किलोमीटर दूर और हिंसाग्रस्त इलाकों में से एक चंदू नगर-करावल नगर रोड पर है। ऐसे में इलाके में हिंसक झड़पों और दंगों के बीच उनका परीक्षा केंद्र तक पहुंचना मुश्किल है।
 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top