सीबीएसई ने टीचर्स- स्टूडेंट्स के लिए लिखा पत्र, लॉकडाउन को बताया कुछ नया करने का सही अवसर


दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 11:29 AM IST

एजुकेशन डेस्क. कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप की रोकथाम के मद्देनजर पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया गय है। ऐसे में सभी स्कूल- कॉलेज समेत शिक्षण संस्थानें बंद हैं, जिसकी वजह से आने वाले नए सत्र के शुरू होने में भी अड़चन आ रही हैं। इस बीच सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने लॉकडाउन की स्थिति में टीचर्स को तकनीक का इस्तेमाल करते हुए क्रिएविट तरीके से बच्चों को पढ़ाने के सुझाव दिए हैं। बोर्ड ने कहा कि जब शिक्षक घर से काम कर रहे हैं तो वह इस समय का पूरा लाभ उठाएं। इस क्रम में टीचर घर पर ही पूरे सत्र के लिए योजना बनाने के साथ ही वीडियो लेक्चर तैयार कर यू-ट्यूब और अपने स्कूल के फेसबुक पेज पर अपलोड करें, जिससे बच्चों को इसका फायदा मिल सकें। 

डिजिटल क्लासरूम को दें बढ़ावा
सीबीएसई ने यह भी कहा कि वह अपने टीचिंग प्लान में कला-खेल जैसी एक्टिवटी को भी शामिल करें। बोर्ड ने कहा है कि विभिन्न विषयों पर ट्यूटोरियल-वीडियो लेक्चर रिकॉर्ड और अपलोड किए जा सकते हैं। इसके अलावा छात्रों को प्रोजेक्ट, केस स्टडी करने के लिए कहा जा सकता है। छात्रों को कहानी, कविता, गीत, रैप लिखने के लिए कहा जा सकता है। सीबीएसई सचिव के मुताबिक लॉक डाउन से मिले समय का लाभ उठाते हुए टीचर्स को फिजिकल क्लासरूम के जगह डिजिटल क्लासरूम को बढ़ावा देना चाहिए।

लॉकडाउन: शिक्षा के लिए सुनहरा अवसर
पूरे देश में लॉकडाउन के बीच गुरुवार को सीबीएसई सचिव अनुराग त्रिपाठी ने स्टूडेंट्स को एक पत्र के जरिए एक संदेश दिया है। अपने इस संदेश में उन्होंने लॉकडाउन को शिक्षा के लिए एक सुनहरा अवसर बताते कहा कि छात्र अगर चाहें तो विद्या के जरिए रोग, शोक, दीनता, पाप, द्वेष, गरीबी, बेकारी, अभाव, अज्ञान, दुर्गुण, कुसंस्कार, आदि की गुलामी से मुक्ति पा सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top