लॉकडाउन के बीच एनडीएलआई की पहल, घर बैठें स्टूडेंट्स के लिए तैयार किया एकेडम‍िक कॉन्‍ट्रेंट

  • स्टूडेंट्स तक पहुंचने के लिए अपने साढ़े तीन करोड़ एकेडम‍िक कॉन्‍ट्रेंट का इस्तमाल कर रही एनडीएलआई
  • मंत्रालय ने एनडीएलआई के 3.5 करोड़ कॉन्‍टेंट में से 78 लाख कॉन्‍टेंट के लिए फ्री एक्‍सेस दिया है

दैनिक भास्कर

May 09, 2020, 11:12 AM IST

पूरे देश में लॉकडाउन के कारण सभी शैक्षणिक संस्‍थान बंद हैं। ऐसे में नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया (एनडीएलआई) ने स्टूडेंट्स तक पहुंचने के लिए अपने साढ़े तीन करोड़ एकेडम‍िक कॉन्‍ट्रेंट का इस्तमाल कर रही है, जिससे वे घर पर रहकर ही पढ़ाई कर सकें। इस बारे में एनडीएलआई के प्रवक्‍ता ने जानकरी देते हुए कहा कि, “इस कॉन्‍टेंट को स्‍टूडेंट एनडीएलआई के मोबाइल ऐप और ऑनलाइन पोर्टल  www.ndl.gov.in के “कोरोना आउटब्रेक: स्‍टडी फ्रॉम होम” सेक्‍शन पर एक्‍सेस कर सकते हैं।” 

78 लाख कॉन्‍टेंट की फ्री एक्‍सेस

उन्‍होंने यह भी बताया कि लॉकडाउन के बाद से मंत्रालय ने एनडीएलआई के 3.5 करोड़ कॉन्‍टेंट में से 78 लाख कॉन्‍टेंट के लिए फ्री एक्‍सेस दिया है, जबकि पूरे कॉन्‍टेंट के लिए स्‍टूडेंट्स को रज‍िस्‍टर कराना होगा। लाइब्रेरी के इस डिजिटल कॉन्‍टेंट में ई-बुक्‍स, ऑडियोबुक्‍स, लेक्‍चर मटीरियरल, इंजीन‍ियर‍िंग, साइंस, मैनेजमेंट, आर्ट और लॉ स्‍ट्रीम में वीडियो लेक्‍चर शामिल है। 

पहल को मिल रहा पॉजिटिव रिस्पॉन्स

इस बारे में आईआईटी खड़गपुर के निदेशक प्रोफेसर पीपी चक्रवर्ती ने कहा कि हम दूसरे संस्‍थानों के फैकल्‍टी सदस्‍यों से  भी अपील करते हैं कि वे भी स्‍टूडेंट्स की भलाई के लिए एनडीएलआई को नई अध्‍ययन सामग्री मुहैया कराएं। उन्‍होंने बताया कि नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया की इस पहल को सकारात्‍मक प्रतिक्रिया मिली है और बड़ी मात्रा में नई अध्‍ययन सामग्री भी प्राप्‍त हुई है।

आईआईटी खड़गपुर ने विकसित एनडीएलआई

नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक परियोजना है । एनडीएलआई का लक्ष्‍य देश के सभी नागरिकों को डिजिटल शिक्षण संसाधन उपलब्‍ध कराना है और ज्ञान प्राप्ति के लिए उन्‍हें सशक्‍त, प्रेरित और प्रोत्‍साहित करना है। नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया को आईआईटी खड़गपुर ने विकसित किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top