महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में रद्द की फाइनल ईयर की परीक्षाएं, पिछले सेमेस्टर के अंकों के आधार पर दिए जाएंगे मार्क्स

  • 14 विश्वविद्यालयों के प्रोफेशनल और नॉन- प्रोफेशनल कोर्सेज की सभी परीक्षाएं रद्द
  • सरकार के फैसले का राज्य के 10 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स पर पड़ेगा असर

दैनिक भास्कर

Jun 26, 2020, 03:47 PM IST

महाराष्ट्र में कोरोना के तेजी से बढ़ रहे मामलों को देखते हुए सरकार ने विश्वविद्यालयों की फाइनल ईयर की परीक्षाएं रद्द करने का ऐलान किया है। इस बारे में जानकारी देते हुए राज्य सरकार ने कहा कि प्रोफेशनल और नॉन- प्रोफेशनल कोर्सेज की सभी परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। यह फैसला राज्य के सभी 14 विश्वविद्यालयों के नॉन- प्रोफेशनल और प्रोफेशनल कोर्स से जुड़े स्टूडेंट्स के लिए लिया गया है। इस फैसले के बाद अब छात्रों को पिछले सेमेस्टर के अंकों के आधार पर मार्क दिए जाएंगे। 

10 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स होंगे प्रभावित

सीएमओ ने यह भी बताया कि विश्वविद्यालयों के तय किए गए फॉर्मूले के आधार पर डिग्री देने का फैसला किया गया है। ट्वविटर पर ट्ववीट करते हुए सीएमओ ने लिखा कि, ‘प्रोफेशनल और नॉन- प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों के आखिरी साल के लास्ट सेमेस्टर की परीक्षा को रद्द करने का फैसला किया गया। सरकार के फैसले का राज्य के 10 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स पर असर पड़ेगा। इसमें नॉन प्रोफेशनल कोर्स के फाइनल ईयर में 7.3 लाख, जबकि इंजीनियरिंग, होटल मैनेजमेंट, आर्किटेक्चर, लॉ जैसे कोर्सेस में 2.8 लाख स्टूडेंट्स शामिल हैं। 

जुलाई में होनी थी परीक्षा

यह परीक्षाएं जुलाई में आयोजित होनी है, लेकिन कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है। महाराष्ट्र देश में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला राज्य है। यहां 1 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। वहीं रोजाना यहां तेजी से मामले भी बढ़ रहे हैं। ऐसे में राज्य में होने वाली परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है। वहीं, इससे पहले राज्य सरकार ने ICSE बोर्ड को भी 10वीं-12वीं की बची परीक्षा के आयोजन की मंजूरी देने से इंकार कर दिया है। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान हाल ही में CBSE-ICSE ने भी 1 जुलाई से होने वाली 10वीं- 12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है।   

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top