एक्सपर्ट्स से जाने जनवरी में जेईई दे चुके एस्पिरेंट्स को क्यों देना चाहिए अप्रैल में मेन एग्जाम ?

दैनिक भास्कर

Feb 27, 2020, 11:07 AM IST

एजुकेशन डेस्क. जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (मेन) बीटेक, बीई, बीआर्क, बीप्लान जैसे कोर्सेज में एडमिशन के लिए स्टूडेंट्स के बीच लोकप्रिय है। हर साल जनवरी और अप्रैल में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) एक कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट (सीबीटी) एग्जाम का आयोजन करती है। इस साल जनवरी फेज कम्प्लीट होने के बाद अप्रैल एग्जाम के लिए रजिस्ट्रेशंस 6 मार्च तक ओपन हैं। ऐसे में जनवरी एग्जाम में पार्टिसिपेट कर चुके सभी स्टूडेंट्स भी इसके लिए रजिस्टर कर सकते हैं। अगर जनवरी वाले अटेम्प्ट में आपका स्कोर अच्छा नहीं रहा है तो आपके दिमाग में यह प्रश्न उठ सकता है, “क्या मुझे जेईई मेन अप्रैल 2020 के लिए अप्लाई करना चाहिए?” एक्सपर्ट्स कहते हैं कि जरूर अप्लाई करना चाहिए। इसके लिए वे तीन प्रमुख वजहों को महत्वपूर्ण मानते हैं। जानिए क्या हैं ये कारण-

एडमिशन के कई ऑप्शंस का लाभ उठाने के लिए दें अप्रैल मेन
जॉइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (जेओएसएए) इस एग्जाम के स्कोर के आधार पर न सिर्फ अंडरग्रेजुएट इंजीनियरिंग कोर्सेज में, बल्कि एनआईटी, आईआईटी, सीएफटीआई जैसे संस्थानों में भी एडमिशंस ऑफर करती है। ऐसे में इस एग्जाम में शामिल न होने वाले एस्पिरेंट्स यह ध्यान रखें कि वे एक बड़े अवसर को खोने जा रहे हैं। इनमें जेईई मेन 2020 ऑल इंडिया रैंक, सीट्स की उपलब्धता और कोर्स व कॉलेज के लिए कैंडिडेट्स की चॉइसेज के आधार पर एडमिशंस किए जाते हैं। इसके लिए आप जेओएसएए की गत वर्ष की कट ऑफ (ओपनिंग व क्लोजिंग) देख सकते हैं, जिससे आप अपना पसंदीदा कोर्स और कॉलेज आसानी से तय कर पाएंगे। एक बेहतर स्कोर व रैंक आपके लिए एक अच्छे कॉलेज की राह प्रशस्त करेंगे।

बेहतर स्कोर व रैंक हासिल करने का मिलता है मौका
जेईई मेन की ऑल इंडिया रैंक के आधार पर देश के प्रसिद्ध इंजीनियरिंग व आर्किटेक्चर इंस्टीट्यूट्स अपने यहां एडमिशंस ऑफर करते हैं। चूंकि रैंक का निर्धारण एनटीए स्कोर के आधार पर किया जाता है, इसलिए यह एग्जाम आपको अपने स्कोर को बेहतर बनाने का मौका देता है। आपको पता होना चाहिए कि यदि कोई कैंडिडेट जनवरी व अप्रैल, दोनों ही एग्जाम्स में शामिल होता है तो उसकी ऑल इंडिया रैंक बेहतर जेईई मेन स्कोर के आधार पर तय की जाती है जबकि यदि आप दोनों में से किसी एक में ही भाग लेते हैं तो उस एग्जाम के स्कोर के आधार पर आपकी रैंक निश्चित की जाती है। ऐसे में जेईई मेन अप्रैल एग्जाम आपके जनवरी स्कोर में सुधार करने और बेहतर रैंक प्राप्त करने के लिए किसी सुनहरे मौके से कम नहीं है।

स्तर में सुधार करने के लिए
यदि आप जनवरी एग्जाम में शामिल हो चुके हैं तो आप नए एग्जाम पैटर्न और हाल ही सामने आए एनवीटी क्वेश्चंस से अच्छी तरह रूबरू हो चुके होंगे जो आपके लिए एक एडवांटेज की तरह है। किसी भी ऐसे सेक्शन जिसमें आपका स्कोर कम रहा हो या फिर जिसे लेकर आपको लगता हो कि आप और बेहतर कर सकते थे, उन्हें लेकर यह एग्जाम आपको एक और मौका देता है। हालांकि जो इस परीक्षा में पहली बार शामिल हो रहे हैं, उन्हें इस बात से निराश होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि अब सभी सेशंस में आयोजित जेईई एग्जाम्स के क्वेश्चन पेपर्स आंसर्स सहित उपलब्ध हैं। आप उनकी सहायता से अपनी तैयारी को मजबूत बना सकते हैं और खुद को एक अच्छे कैंडिडेट के तौर पर पेश कर सकते हैं। तो हो जाइए तैयार जेईई मेन अप्रैल 2020 के लिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top