इस साल मध्य प्रदेश में नहीं खुलेंगे नए प्राईवेट कॉलेज और कोर्स, उच्च शिक्षा विभाग ने खारिज किए सभी प्रस्ताव

  • अब इन कॉलेजों को मंजूरी पाने के लिए अगले एकेडमिक ईयर तक इंतजार करना होगा
  • इस बार उच्च शिक्षा विभाग को लगभग एक दर्जन प्राइवेट कॉलेज खोलने के प्रस्ताव मिले थे

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 01:24 PM IST

दुनिया भर में फैल चुके कोरोना वायरस का असर आर्थिक, सामाजिक सेक्टर के साथ ही पढ़ाई पर भी काफी देख को मिल रहा है। इसी क्रम में अब मध्य प्रदेश में इस वर्ष ना ही नए निजी कॉलेज खुलेंगे और न ही नए कोर्स शुरू किए जाएंगे। शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने नए निजी कॉलेज खोलने के मिले सभी प्रस्तावों के खारिज कर दिया है। इस बार उच्च शिक्षा विभाग को लगभग एक दर्जन प्राइवेट कॉलेज खोलने के प्रस्ताव मिले थे।

लॉकडाउन के कारण नहीं हो सका निरीक्षण

विभाग के फैसले के बाद अब इन कॉलेजों को मंजूरी पाने के लिए अगले एकेडमिक ईयर तक इंतजार करना होगा। दरअसल, नए कॉलेज को मान्यता देने या नए कोर्स को शुरू करने से पहले कमेटी जांच पड़ताल करती है, लेकिन कोरोना वायरस की वजह से बने हालात के कारण इस बार यह संभव नहीं हो सका है। ऐसे में विभाग ने इस साल नए निजी कॉलेज नहीं खोलने का फैसला लिया है। इसके अलावा पहले से चल रहे कॉलेजों को निरीक्षण किए बिना ही मान्यता दे दी जाएगी। कॉलेजों में जीतनी सीटे थी, उन्हीं पर प्रवेश ले पाएंगी, क्योंंकि इस वर्ष कॉलेजों में सीटे भी नहीं बढ़ाई जाएंगी।

ऐसे मिलती है मान्यता

हर साल मार्च- अप्रैल माह में उच्च शिक्षा विभाग सीट बढ़ाने, नए कोर्स संचालित करने और नए कॉलेज खोलने के लिए आवेदन मांगता है। मौजूदा हालात के चलते इस साल इस प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया गया था। आवेदनोंं के आधार पर उच्च शिक्षा विभाग कमेटी बनाती है, जो उन कॉलेजों में जाकर निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार करती है। इस कमेटी का तैयार की गई रिपोर्ट के आधार पर ही कॉलेज को मान्यता दी जाती है। इस वर्ष कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन की वजह से न ही कमेटी का गठन हो सका और न ही कॉलेजों का निरीक्षण। 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top